कहानियां - छोटे गधे ने हार नहीं मानी - एक गधे की सच्ची कहानी

कहानियां - छोटे गधे ने हार नहीं मानी - एक गधे की सच्ची कहानी

छोटे गधे ने हार नहीं मानी - Chote Gadhe Ne Haar Nahi Mani


छोटे गधे ने हार नहीं मानी - एक गधे की सच्ची कहानी


छोटे गधे ने हार नहीं मानी - Chote Gadhe Ne Haar Nahi Mani

ग्रैंड-तुर्क नाम का द्वीप , नीले समुद्र से घिरा था. वहां साइमन नामक एक बूढा आदमी अपने छोटे गधे सैंडी के साथ रहता था.

साइमन लाल टिन की छत वाले एक छोटे पत्थर के घर में रहता था. सैंडी आरामदायक शेड में सोता था जिसे साइमन ने खास तौर पर उसके लिए ही बनाया था.


छोटे गधे ने हार नहीं मानी - Chote Gadhe Ne Haar Nahi Mani

साइमन के घर में ब्लैकी बिल्ली, बुपर मुर्गा और कुछ बातूनी मुर्गियाँ भी रहती थी.

साइमन के घर से एक ढलान वाला रास्ता नीचे कॉर्नबर्न टाउन शहर में जाता था.

हर सुबह जब सूरज समुद्र के ऊपर निकलता था, तब साइमन सँडी को खाली बाल्टियों से भरी गाड़ी के साथ कुएँ तक लाता था.

साइमन हरेक बाल्टी को ताजे, ठंडे पानी से भरता था. जब तक सभी बाल्टियां भर नहीं जाती थी तब तक सैंडी खडा इंतजार करता रहता था.

बाल्टियों को भरने में साइमन को कितना समय लगेगा इसका सैंडी को अच्छा अंदाज था.


छोटे गधे ने हार नहीं मानी - Chote Gadhe Ne Haar Nahi Mani

फिर ठीक समय पर, सैंडी कॉर्नबर्न टाउन की घुमावदार सड़क पर गाड़ी को खींचने लगता था.

छोटे गधे को अपनी नौकरी से प्यार था. लाल फाटक पर जब साइमन पानी देता और खाली बाल्टी वापस लेता तब तक सैंडी उसका इंतजार करता था. साइमन को सैंडी को यह बताने की जरूरत नहीं पड़ती थी कि उसे नीले या पीले गेट पर कब रुकना है. सैंडी को पूरा रास्ता अच्छी तरह पता था.

दिन के अंत में जब साइमन और सैंडी अपने घर लौटते थे, तो ब्लैकी बिल्ली आहे भरती थी, बुपर मुर्गा अपने पंख फड़फड़ाता था, और बातूनी मुर्गियाँ खूब शोर मचाती थीं.


छोटे गधे ने हार नहीं मानी - Chote Gadhe Ne Haar Nahi Mani

तब साइमन, सैंडी को बाल्टी में ताजा पानी, स्वादिष्ट घास, और कुछ गाजर खाने को देता था. सैंडी को गाजर बेहद पसंद थी।

फिर एक सुबह को जब सूरज समुद्र के ऊपर आया, तब साइमन, सैडी को गाड़ी से बाँधने के लिए अपने घर से बाहर नहीं निकला. तब सैंडी अपने शेड से बाहर निकला और साइमन के घर के सामने आगे-पीछे टहलकदमी करने लगा. वो साइमन को बाहर बुलाने के लिए रम्भाने लगा..

बुपर ने बांग दी, और मुर्गियाँ भी चिल्लाई, लेकिन न साइमन और न ही ब्लैकी बिल्ली घर से बाहर आई.

साइमन कहा था? काम पर जाने का समय हो गया था! सैंडी, साइमन और गाड़ी के बिना कुएं पर गया.


छोटे गधे ने हार नहीं मानी - Chote Gadhe Ne Haar Nahi Mani

उसने वहां उतने समय तक इंतजार किया, जितना समय साइमन पानी भरने के लिए लेता. फिर उसने गेट को खोला और घुमावदार रास्ते से शहर की ओर अकेला चला. सैंडी, लाल फाटक पर पहुंचा और वहां रुका. उसने वहां सिर्फ उतने समय ही इंतजार किया जितना समय साइमन को पानी देने और खाली बाल्टी लेने में लगता. फिर वो नीले गेट की ओर चला और उसने वहां भी इंतजार किया, और फिर वो पीले गेट पर गया.


छोटे गधे ने हार नहीं मानी - Chote Gadhe Ne Haar Nahi Mani

बच्चे अपने अपने घरों के सामने खेल रहे थे. जब उन्होंने देखा कि सैंडी पीले रंग के गेट के सामने अकेले खड़ा था तब उन्होंने पूछा, "सैंडी, साइमन कहाँ है?" सैंडी ने अपना सिर हिलाया और आगे चल पड़ा.


छोटे गधे ने हार नहीं मानी - Chote Gadhe Ne Haar Nahi Mani

बच्चों ने सैंडी का पीछा किया. जहाँ-जहाँ सैंडी रुका उस हर गेट पर बच्चे भी रुके. उन्होंने अन्य बच्चों को बाहर बुलाया और उन्हें भी सैंडी के पीछे-पीछे चलने को कहा.

जब वे शहर के केंद्र में पहुँचे तो वहां पर बेकर ने सैंडी और बच्चों की परेड देखी. "सैंडी, साइमन कहाँ है?"


छोटे गधे ने हार नहीं मानी - Chote Gadhe Ne Haar Nahi Mani

बेकर ने छोटे गधे से पूछा. सैंडी ने सिर्फ अपना सिर हिलाया और वो आगे चल पड़ा.

जब वे कपड़े की दुकान के सामने से गुजरे, तो दुकानदार ने सैंडी और बच्चों की परेड देखी. "सैंडी, साइमन कहाँ है?" उसने छोटे गधे से पूछा सैंडी ने अपना सिर हिलाया और आगे चल पड़ा.


छोटे गधे ने हार नहीं मानी - Chote Gadhe Ne Haar Nahi Mani

जब सैंडी सबसे आखिरी गेट पर आया तो वह वहां रुक गया और बच्चे भी वहां रुक गए. वो गाँव के डॉक्टर का घर था. जब डॉक्टर ने अपनी खिड़की से बाहर देखा तब उन्हें सभी बच्चे दिखाई दिए. उन्होंने देखा कि सैंडी गेट पर इंतजार कर रहा था.


छोटे गधे ने हार नहीं मानी - Chote Gadhe Ne Haar Nahi Mani

तब डॉक्टर ने दवाइयों का अपना काला बैग उठाया और वो बाहर की तरफ भागे. "सैंडी, साइमन कहाँ है?" डॉक्टर ने छोटे गधे से पूछा. सैंडी ने अपना सिर हिलाया और फिर वो साइमन के घर जाने वाली घुमावदार सड़क पर चला पड़ा.

डॉक्टर और बच्चों की परेड भी सैंडी के पीछे-पीछे चली. साइमन को बाहर बुलाने के लिए सैंडी ज़ोर से रंभाया। डॉक्टर ने दरवाजा खटखटाया. अंदर से एक कमजोर आवाज ने कहा, "अंदर आओ." जब डॉक्टर ने दरवाजा खोला तो उन्होंने देखा कि साइमन फर्श पर बैठा था और उसका एक पैर तकियों के ढेर पर टिका था.


छोटे गधे ने हार नहीं मानी - Chote Gadhe Ne Haar Nahi Mani

"साइमन, क्या हुआ?" डॉक्टर ने पूछा "मैं रात में एक गिलास पानी पाने के लिए उठा और फिर ब्लैकी बिल्ली के ऊपर फिसल गया. उससे मेरे पैर में चोट लग गई." साइमन ने कहा. "ब्लैकी को भी चोट लगी है." डॉक्टर ने अपना काला बैग खोला और उसमें से एक लंबी और एक छोटी पट्टी निकाली.

डॉक्टर ने लंबी पट्टी साइमन के पैर पर बाँधी. उन्होंने छोटी पट्टी को ब्लैकी के पंजे के चारों ओर लपेटा. "अब, पैर ठीक होने तक तुम्हें पानी डिलीवरी का काम बंद करना होगा!" डॉक्टर ने चेतावनी दी. "लेकिन फिर कॉकबर्न टाउन में लोगों को पीने का पानी कौन पहुंचाएगा?" साइमन ने पूछा.


छोटे गधे ने हार नहीं मानी - Chote Gadhe Ne Haar Nahi Mani

"सैंडी, कॉकबर्न टाउन में सभी लोगों को पीने का पानी पहुंचाएगा," सभी बच्चे, खिड़की में से एक-साथ चिल्लाये. "लेकिन सैंडी को गाड़ी से कौन बांधेगा और कुएँ से कौन पानी निकालेगा?" साइमन ने पूछा. "हम सैंडी को गाड़ी से बाधैंगे और हम कुएं में से बाल्टियों में पानी भरेंगे," बच्चों ने खिड़की में से कहा. "लेकिन सैंडी को ताजा पानी, स्वादिष्ट घास और गाजर को कौन खिलाएगा ?"

साइमन ने पूछा. "हम सैंडी को ताजा पानी, स्वादिष्ट घास और गाजर खिलाएंगे," बच्चों ने खिड़की में से कहा. "सैंडी, आसानी से हरेक घर में पानी पहुंचा सकता है," डॉक्टर ने कहा. "सैंडी अच्छी तरह पूरा रास्ता जानता है।" बच्चों ने खिड़की में से खुशी-खुशी कहा.


छोटे गधे ने हार नहीं मानी - Chote Gadhe Ne Haar Nahi Mani

पूरे अगले हफ्ते जब सूरज समुद्र के ऊपर उठता तब बच्चे साइमन के घर पहुँच जाते. वे सैंडी को गाड़ी से बांधकर उसे कुएँ तक ले जाते. फिर वे सभी मिलकर बाल्टियों में पानी भरते. उसके बाद सैंडी शहर में जाता और लाल गेट, नीले गेट और फिर पीले.गेट पर रुकता.

कॉकबर्न टाउन के लोग अपने दरवाजे पर सैंडी और बच्चों के आने का इंतजार करते. बच्चों ने प्रत्येक घर में पानी से भरी बाल्टियां दी, और खाली बाल्टियों को सैंडी की गाड़ी में रखा. फिर शहर में हर कोई साइमन का पैर ठीक होने का इंतजार करने लगा.

छोटे गधे ने हार नहीं मानी - Chote Gadhe Ne Haar Nahi Mani

फिर एक दिन साइमन ने बच्चों से कहा, "अब मेरा पैर बिल्कुल ठीक हो गया है हैं। "साइमन अपने काम पर वापस जाने के लिए उत्सुक था. अब उसे बच्चों की मदद की जरूरत नहीं थी. बच्चे खुश थे कि साइमन का पैर अब बेहतर था. लेकिन फिर भी उन सभी के चेहरे उदास थे. यहां तक कि सैंडी का सिर भी लटका हुआ था.

साइमन मुस्कुराया और उसने कहा, "ठीक है बच्चों, तुम आज मेरे और सैंडी के साथ आ सकते हो!" बच्चे खुश हो गए, लेकिन अगले दिन, वे फिर उदास लग रहे थे. इसलिए साइमन ने बच्चों को दुबारा अपने साथ आने दिया. और फिर अगले दिन भी, और उसके अगले, और उसके बाद हर दिन।


छोटे गधे ने हार नहीं मानी - Chote Gadhe Ne Haar Nahi Mani

इसलिए, यदि आप कभी कैरिबियन के इस विशेष द्वीप पर आए, तो आप जरूर एक बूढ़े आदमी, उसके छोटे गधे और पानी की बाल्टियों से भरी गाड़ी की तलाश करे.

उनके पोडे-पीछे आपको गाते और नाचते बच्चों की परेड भी दिखाई देगी!

छोटे गधे ने हार नहीं मानी- YOUTUBE VIDEO

ये कहानी एक छोटे गधे की हे।

इस कहानी में , एक छोटे गधे ने कैसे अपने आपको साभित किया और हर नहीं मना।

मेरे दोस्तो , अगर आपको ये छोटे गधे की कहानी अशी लगे तो वीडियो को लाइक और शेयर करे।

Comming Soon Video...

छोटे गधे ने हार नहीं मानी - PICTURE / PDF BOOK

ये कहानी की आपको कॉपी चाहिए तो आप यहाँ से सेव कर सकते हो , यहाँ पे आपको इमेज और PDF BOOK मिल जाये गई वो भी फ्री में उस के लिए आपको यह निचे दो बटन दिए गए हे उस में से आप क्लीक कर के सेव कर सरते हो, अपने मोबाइल या कंप्यूटर में.

Comming Soon...

छोटे गधे ने हार नहीं मानी - POST UPDATE DETAILS


Chote Gadhe Ne Haar Nahi Mani | छोटे गधे ने हार नहीं मानी के बारे में अधिक जानकारी.
पुस्तक का नाम : छोटे गधे ने हार नहीं मानीा
पुस्तक के लेखक : -
पुस्तक की श्रेणी : बच्चे, गधे की कहानी
Post Published on :
Post Updated On :
Publisher By :- WWW.HINDISTORYBOOK.IN

हेलो, मेरे पियारे दोस्तों,

मे आप सब लोगो के लिए एक नया प्लेटफॉर्म लाया हु जिस पे आप सबको नाइ नाइ हिंदी कहानी मिले गी , अगर आपको ये हमारी वेबसाइट हिंदी स्टोरी बुक आपको पसन् आये तो इस वेबसाइट को शेयर जरूर करे और निचे कमेंट कर के बताईये की हमारी वेबसाइट आपको किसी लगी।

आपका प्यार हमारी ये वेबसाइट को लोगो तक पोचर ने में हेल्प करे गा.


Thank You

आपको ये कहानी पसंद आ सकती है